Doodh Peene Ka Sahi Time, दूध पीने का सही समय

Doodh Peene Ka Sahi Time क्या है?

स्वागत है आप सबका एक बार फिर से. जब भी exercise करके बॉडी बनाने के जिक्र होता है तो, एक नाम सबसे पहले याद आता है, और वो है दूध. भारत देश का एक बहुत बड़ा हिस्सा बॉडी बनाने के लिए दूध को ही प्राथमिकता देता है. और ये सही भी है. दूध में वो सारी चीज़ें होती हैं जो मसल्स और पूरे शरीर के विकास के लिए आवश्यक हैं. लेकिन इसको लेकर एक चीज़ सबके दिमाग में चल रही होती है की आखिर दूध पीने का सही समय (Doodh Peene Ka Sahi Time) क्या है.

doodh peene ka sahi time

ये एक ऐसा मुद्दा है जिसको लेके अलग अलग लोगों की अलग अलग राय है. हमारे डॉक्टर्स हमे कुछ और बताते हैं जबकि Dieticians और आयुर्वेद कुछ अलग सलाह देते हैं. तो फिर दूध किस समय पीना चाहिए (Doodh Kis Time Peena Chahiye) इसका फैसला करना एक मुश्किल काम बन जाता है. कई लोग कहते हैं की इसको नाश्ते में लेना चाहिए और बहुत से लोग ऐसे हैं जो कहते हैं की दिन में तो दूध पीना ही नहीं चाहिए.

दूध हमारे लिए बहुत ही फायदेमंद होता है. इसमें सभी तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं. जैसे दूध में प्रोटीन के अलावा  विटामिन A,K,B2 और B12, और मिनरल्स में कैल्शियम, सोडियम, फोस्फोरस और pottassium पाए जाते हैं. यह सभी उम्र के लोगों के लिए लाभदायक है. बच्चे, बूढ़े और जवान सभी इसका सेवन कर सकते हैं. पर इन सभी के लिए दूध पीने का सही समय अलग अलग हो सकता है.

ये भी पढ़ें-

एक्सरसाइज करने के नियम

सप्लीमेंट्स क्या है? बिना सप्लीमेंट्स के बॉडी बनायीं जा सकती है या नहीं?

कितना प्रोटीन लेना चाहिए हमें रोज, बॉडी बनाने के लिए

एक्सरसाइज करने का सही time क्या है (मोर्निंग या इवनिंग)

 

जिन लोगों का पाचन तंत्र कमजोर है, या जिनको खांसी और अपच वगैरह हो उनको दूध नहीं पीना चाहिए. इसके अलावा हमारी सलाह ये है की आप कभी भी दूध को खाने के साथ ना पीयें. दूध को अलग से ही पीया जाना चाहिए. इसका कारण ये है की ये पचाने में बहुत भारी होता है. खाने के साथ साथ लेने से हमारे पाचन तंत्र पर अतिरिक्त दबाव पड़ता है जिससे पाचन क्रिया खराब भी हो सकती है.

दूध पीने का सही समय (Doodh Peene Ka Sahi Time) में आगे पढ़िए

हमारे देश में कई प्रकार का दूध प्रयोग में लाया जाता है, जैसे भैंस, गाय और बकरी का दूध. पर हमारी आबादी का एक बहुत बड़ा हिस्सा भैंस के दूध का प्रयोग करता है. भैंस का दूध हमारे यहाँ सबसे ज्यादा लोकप्रिय है. ऐसा नहीं है की गाय और बकरी का दूध हमारे लिए किसी काम का नहीं है, हर तरह के दूध के अपने अलग फायदे हैं. अगर कोई आदमी लम्बी बीमारी के कारण बहुत कमज़ोर हो गया हो तो दूध उसे कमजोरी से उबारता है.

दूध के अनगिनत लाभों की वजह से ही इसको एक परिपूर्ण भोज्य पदार्थ माना जाता है. इसमें मौजूद पौषक तत्व शारीरिक विकास के लिए बहुत जरुरी हैं. बल्कि हम तो ये कहेंगे की सिर्फ शारीरिक विकास के लिए ही नहीं बल्कि हमारे मानसिक विकास के लिए भी ये जरूरी है. पर इसके लिए दूध पीने का सही समय पता करना भी जरूरी है.

दूध पीने का सही समय

आप लोगों को एक चीज़ का हमेशा ध्यान रखना है की दूध में कभी भी खट्टे फल मिलाकर नहीं पीना चाहिए. इससे आपको कई तरह की समस्याएं हो सकती हैं. अब आते हैं मुद्दे पर, दूध पीने का सही समय क्या है. सबसे पहले तो आपको एक बात बतादें की Doodh Peene Ka Sahi Time सबके लिए अलग अलग हो सकता है. लेकिन फिर भी हम यहाँ आपको बताएँगे की ज्यादा फायदे लेने के लिए दूध किस time पीना चाहिए.

अब चलते हैं पॉइंट पर Doodh Peene Ka Sahi Time क्या है

देखिये दोस्तों सबसे पहले बात करते हैं की अगर दूध सुबह पीया जाए तो कैसा रहेगा? क्या सुबह के time में भी दूध हमें पूरा फायदा दे सकता है? तो सबसे पहले तो हम आपको बतादें और ऊपर बताया भी है की दूध भारी होता है पचाने में. इसको पचाना इतना आसान नहीं है. बहुत से लोग तो ऐसे भी होते हैं जिनको दूध पीने से दस्त तक लग जाते हैं. ऐसा होता है उनके कमजोर पाचन तंत्र के कारण.

इसके अलावा दूध में sadatives भी पाए जाते हैं जो की दिन में हमारे लिए ठीक नहीं होते. sadatives उदासी को promote करते हैं जो हमें थोडा सुस्त बना देती है. इसलिए नार्मल आदमी को हमारी सलाह यही है की सुबह आप लोग दूध ना पीयें.

Doodh Peene Ka Sahi Time सुबह का उन लोगों के लिए सही हो सकता है जो सुबह के समय जिम में या अपने घर पर exercise करते हैं. वो लोग सुबह दूध पी सकते हैं और उसका पूरा फायदा भी उनको मिलता है, क्योंकि आपने ये तो सुना ही होगा की exercise पत्थर को भी पचा सकती है, तो फिर दूध की क्या बिसात. आप पढ़ते रहिये दूध पीने का सही समय क्या है और दूध किस समय पीना चाहिए.

रही बात sadatives की, तो exercise करने से सेरोटोनिन हार्मोन का लेवल बढ़ता है जिससे वो sadatives को ब्लॉक कर देता है. जिससे sadatives का असर ख़त्म हो जाता है. तो अगर आप exercise करने वाले बन्दे हैं तो आप सुबह भी दूध पी सकते हैं.

अब बात करते हैं दोपहर की. क्या Doodh Peene Ka Sahi Time दोपहर भी हो सकता है? जी नहीं. भारत देश में हम सब लोगों की दिनचर्या कुछ ऐसी है की हम दोपहर में सबसे ज्यादा मात्रा में भोजन लेते हैं. कहने का मतलब ये है की हमारा Lunch तीनों meals में से सबसे heavy होता है. और दूध तो भारी है ही.

तो दोपहर में यदि आपने दूध पीया तो आप उसे पचा नहीं पायेंगे. बल्कि होगा ये की दूध तो पचेगा ही नहीं बल्कि वो आपके खाने को भी नहीं पचने देगा. तो समझ लीजिये की दूध पीने का सही समय दोपहर तो कभी नहीं हो सकता.

अब बच गया रात का time. तो हमारे और आयुर्वेद के अनुसार रात का समय दूध पीने का सर्वोत्तम समय है. पूरी रात हम कुछ खाते नहीं हैं, तो दूध धीरे धीरे पचते हुए शरीर को प्रोटीन देता रहता है और बॉडी की रिपेयरिंग भी चलती रहती है. दूध को पचने का पूरा time भी मिल जाता है और उससे होने वाले पूरे फायदे भी मिल जाते हैं. तो आप समझ गए होंगे की रात का समय दूध पीने का सही समय है.

ऊपर हमने बताया की दूध में sadatives होते हैं जो की रात में हमारे ऊपर कोई असर नहीं करते. क्योंकि रात में हमें सोना ही होता है और हम नींद में होते हैं. दूसरा दूध में एक ऐसा हार्मोन होता है जो की अच्छी नींद को सपोर्ट करता है. तो रात को दूध पीने के बाद हम नींद भी अच्छी ले सकते हैं.

तो दोस्तों आपको पता चल गया होगा की Doodh Kis Time Peena Chahiye. पर जैसा की हमने ऊपर बताया की सबका शरीर और सबका पाचन तंत्र अलग अलग होता है. इसलिए सभी लोगों के लिए दूध पीने का सही समय भी अलग अलग हो सकता है. पर ये जान लीजिये की अधिकाँश लोगों के लिए दूध पीने का सर्वोत्तम समय रात ही है.

आपने यहाँ हमारी पोस्ट दूध पीने का सही समय (Doodh Peene Ka Sahi Time) पढ़ी. पोस्ट पसंद आई हो तो comment करके जरूर बताइयेगा, और पोस्ट को Like and Share करना बिलकुल ना भूलें. धन्यवाद.

 

Leave a Reply