मोबाइल के ज्यादा इस्तेमाल से होने वाले नुकसान साइड इफेक्ट्स

Health Side Effects Of Using Mobile In Hindi- आप लोग मोबाइल का इस्तेमाल तो जरूर करते होंगे, तो आज Mobile Istemal Karne Ke Nuksan भी जान लीजिये. बहुत ही कम समय में मोबाइल फ़ोन हमारी जरूरत बन गया है. लेकिन बहुत ही कम लोगों को इस बात का अंदाज़ा है की मोबाइल का ज्यादा इस्तेमाल करने के बहुत ही बड़े साइड इफेक्ट्स भी होते हैं.

आज बहुत से लोगों के पास स्मार्टफ़ोन आ गया है, इसने हम लोगों की ज़िन्दगी को काफी आसान भी बना दिया है. कई तरह के काम आज हम घर बैठे बैठे चुटकियों में कर लेते हैं. इसके अलावा हमारे मनोरंजन के लिए लगभग सारी चीज़ें इसमें उपलब्ध रहती हैं. आज हम गाने सुन सकते हैं, मूवीज देख सकते हैं, वीडियो कॉल कर सकते हैं और यहाँ तक की तरह तरह के गेम्स भी खेल सकते हैं.

Using Mobile Side Effects In Hindi, Mobile Use Karne Ke Nuksan

यही वजह है बच्चों से लेकर बड़ों तक हर शख्स आज अपना ज्यादा से ज्यादा समय मोबाइल के साथ बिता रहा है. ये एक अनजाना खतरा है हम सबके लिए, मोबाइल के नुकसान धीरे धीरे हमारी सेहत को बिगाड़ रहे हैं. लेकिन हमारा ध्यान अभी उस और नहीं जा पा रहा है. एक सर्वे के मुताबिक आज के दिन भारत के लोग सबसे ज्यादा समय अपने मोबाइल के साथ बिता रहे हैं.

खाना खा रहे हैं तो बीच में मोबाइल, गाडी चला रहे हैं तो मोबाइल, यहाँ तक की टी.वी देखते हुए भी मोबाइल लोगों के हाथ में ही रहता हैं और उँगलियाँ स्क्रीन पर चलती रहती हैं. Mobile Istemal Karne Ke Nuksan कुछ ऐसे हैं की ये हमें तुरंत नज़र नहीं आते. यही वजह है की अभी इस पर लोगों का ध्यान जाना सिर्फ शुरू ही हुआ है.

मोबाइल इस्तेमाल करने के नुकसान

लेकिन हमारी मुहीम आपको एक स्वस्थ जीवन पर अग्रसर करने की है. तो हम आपके लिए ये पोस्ट लेकर आये हैं, जिसमें हम आपको मोबाइल के नुकसान बताने के साथ साथ आपको ये भी बताएँगे की मोबाइल का ज्यादा इस्तेमाल किस प्रकार आपको रोगी बना सकता है. तो चलिए बताते हैं आपको Mobile Side Effects In Hindi.

Mobile Istemal Karne Ke Nuksan Aur Side Effects

(1) मानसिक रोग– मोबाइल का अधिक इस्तेमाल करना सीधा हमारे दिमाग को प्रभावित करता है, ये कुछ ऐसी स्थितियां पैदा कर देता है की आपका दिमाग चाहकर भी आराम नहीं कर पाता. इससे दिमाग पर दबाव बहुत ज्यादा बढ़ जाता है और आप ज्यादातर समय तनाव में रहना शुरू कर देते हैं. जब ये स्थिति एक लम्बे समय तक चलती रहती है आदमी मानसिक रोगी बन जाता है.

एंग्जायटी और डिप्रेशन जैसे रोग आदमी को अपनी और खींचने लगते है. हम सब जानते हैं की ये बीमारियाँ सामान्य बीमारियाँ नहीं है. एक बार हो जाने पर इनसे पीछा छुड़ाना बहुत ही मुश्किल होता है. अत: ऐसी स्थिति से बचने के लिए हमें चाहिए की मोबाइल का इस्तेमाल सिर्फ जरूरी काम के लिए करें.

(2) आँखें कमजोर हो जाना– ज्यादा Mobile Istemal Karne Ke Nuksan आपकी आँखों को बिलकुल कमजोर बना देते हैं. एक ज़माना था जब कीपैड वाले मोबाइल होते थे, जिनका उपयोग हम सिर्फ बात करने के लिए करते थे. लेकिन अब ज़माना स्मार्ट फोंस का है, ज्यादातर समय हमारी नज़रें इसकी स्क्रीन पर टिकी होती हैं, बिना पलके झपकाएं हम लगातार देखते रहते हैं.

आईरिस ज्यादा होने के कारण हमारी आँखों पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है. धीरे धीरे करके हमारी आँखों की रौशनी कम होती जाती है. हमारी आँखों की भी एक सहन शक्ति होती है, अगर हम उसको लांघ देते हैं तो फिर आँखें कमजोर होने लगती हैं.

(3) फोबिया हो जाना– फोबिया यानी भ्रम, ये एक ऐसी स्थिति है जिससे व्यक्ति बहुत ज्यादा परेशान हो सकता है. इसमें व्यक्ति को बार बार ऐसा महसूस होता है की किसी का फ़ोन आया है. उसके कानों में बार बार उसके फ़ोन की रिंगटोन गूंजती है. असल में ये भ्रम होता है, विज्ञान के अनुसार अगर हम किसी चीज़ के साथ बहुत ज्यादा वक़्त बिताते हैं तो दिमाग के एक हिस्से में वो हमेशा अंकित रहने लग जाती है.

यही कारण है फ़ोन से दूर होने पर भी आदमी को लगता है की उसका फ़ोन बज रहा है. ये एक तरह का मानसिक रोग है जो की परेशानी का कारण बन जाता है. ऐसा होने पर जल्द से जल्द किसी मनोचिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए.

(4) इनसोमनिया– स्वस्थ रहने के लिए अच्छी और गहरी नींद हमारे लिए बहुत जरूरी है. लेकिन मोबाइल इसके बीच में रोड़ा बन रहा है और हम ठीक से सो नहीं पा रहे हैं. हालात कुछ ऐसे हो गए हैं की हम मोबाइल को स्विच ऑफ भी नहीं कर सकते, और अगर साइलेंट करते हैं तो दिमाग में बार बार यही आता है की कहीं किसी का फ़ोन तो नहीं आ रहा है.

ऐसे में दिमाग में एक अजीब सी ज़द्दोज़हद चलती रहती है और चाहकर भी आप ठीक से सो नहीं पाते. Mobile Ka Jyada Use Karne Ke Nuksan धीरे धीरे हमारे दिमाग को इस कदर प्रभावित कर रहे हैं की हम इनसोमनिया नाम की बीमारी से पीड़ित हो रहे हैं. इसलिए बहुत जरूरी है की देर रात तक मोबाइल में ना घुसे रहें.

(5) गुस्सा और चिडचिडापन– मोबाइल फ़ोन ने हमारे अन्दर गुस्से और चिडचिडेपन को बढ़ावा दिया है. आजकल हर कोई छोटी सी बात के लिए भी बार बार फ़ोन लगा देता है, इससे आदमी में टेंशन पैदा होती है और साथ में गुस्सा भी उत्पन्न होता है. लगातार ऐसा होते रहने से आपका व्यव्हार परमानेंटली बदल जाता है और आप चिडचिडेपन के शिकार हो जाते हैं.

(6) DNA को खतरा– कई लोग मोबाइल पर बहुत ही ज्यादा बातें करते हैं, ये पॉइंट खासकर उन्हीं लोगों के लिए है. जब हम मोबाइल पर बातें करते हैं तो मोबाइल से निकलने वाली Radio Frequiency से हमारे DNA को नुक्सान पहुँचने की संभावना बहुत ज्यादा होती है. इसीलिए कहा जाता है की मोबाइल पर सिर्फ काम की बातें कीजिये. गप्पे लड़ाते रहने से बड़ा नुकसान हो सकता है.

(7) समय की बर्बादी– हमारे ज्यादातर समय पर आज स्मार्ट फ़ोन का कब्ज़ा हो गया है. जब देखो हम जेब से मोबाइल निकालकर शुरू हो जाते हैं. ये हमारे टाइम मैनेजमेंट में बड़ी बाधा उत्पन्न करता है. हमारा समय कब खराब हो गया हमें पता ही नहीं चलता. इसके कारण हम लेट लतीफी के शिकार हो गए हैं. समय बहुमूल्य है, इसे मोबाइल में ना गवाएं.

(8) दिमाग पर प्रभाव– हमारे दिमाग में बहुत सारे केमिकल्स होते हैं और इसके सुचारू रूप से काम करने के लिए इनमें संतुलन बना रहना जरूरी है. लेकिन मोबाइल के रेडिएशन से इनका संतुलन बिगड़ जाता है और दिमाग पर गहरा असर भी पड़ सकता है. ये कुछ ऐसे Mobile Istemal Karne Ke Nuksan हैं जो दिखाई नहीं देते लेकिन प्रभाव जरूर डालते हैं.

(9) नपुंसकता– मोबाइल का बहुत अधिक उपयोग पुरुषों को नपुंसकता की और धकेल रहा है. इसी रेडिएशन के कारण स्पर्म की क्वालिटी पर भी असर पड़ता है और क्वांटिटी पर भी. एक अध्ययन के मुताबिक इसके लगातार अधिक इस्तेमाल करने के कारण पुरुषों की स्पर्म क्वांटिटी 25% तक कम हो जाती है.

(10) कैंसर का खतरा– हम सब लोग सोते समय अपने मोबाइल को बिलकुल अपने आस पास ही रखते हैं, और दिन के समय में मोबाइल हमेशा हमारी जेब में ही होता है. ये हमारे लिए एक खतरे की घंटी है. मोबाइल से निकलने वाली एलेक्ट्रोमाग्नेट रेडिएशन हमारे शरीर में कैंसर की कोशिकाओं में वृद्धि करती हैं. मोबाइल जब vibrate मोड पर होता है तो स्थिति और ज्यादा खराब हो जाती है.

(11) याददाश्त पर असर– मोबाइल का अधिक इस्तेमाल लोगों की यादाश्त को कमजोर कर रहा है. आजकल हमारी आदत हो गयी है की हम एक साथ 2 काम कर रहे होते हैं. एक तो मोबाइल इस्तेमाल कर रहे होते हैं और दूसरा कोई और काम कर रहे होते हैं.

ऐसी स्थिति जब लम्बे समय तक कायम रहती है तो दिमाग पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है और दिमाग हमेशा कंफ्यूज रहता है. जिससे धीरे धीरे याददाश्त कम होने लगती है.

इन्हें भी जरूर पढ़ें-

नेगेटिव सोच कैसे दूर करे – पॉजिटिव कैसे रहें

रात में जल्दी सोने के फायदे भी कम नहीं हैं

कोल्ड ड्रिंक्स पीने के नुकसान बड़े ही घातक हैं

स्वस्थ रहने के लिए 40 जरूरी हेल्थ टिप्स

ज्यादा एक्सरसाइज करने के बड़े नुकसान

तो दोस्तों ये थी हमारी पोस्ट Mobile Istemal Karne Ke Nuksan या Health Side Effects Of Using Mobile In Hindi. पोस्ट आपको कैसी लगी comment करके जरूर बताएं, और हाँ पोस्ट को Like और share करना ना भूलें. हमारे साथ जुड़ने के लिए हमारे फेसबुक पेज को Like कर लें और फेसबुक पर भी हमारे मित्र बन जाएँ. धन्यवाद.

Leave a Reply