पानी पीने का सही तरीका, नियम और टाइम

Pani Peene Ka Sahi Tarika– नमस्कार आप सबको आज हम आपको बताने जा रहे हैं पानी पीने का सही तरीका. सुनने में बड़ी ही फालतू सी बात लगती है, लेकिन हैं बहुत ही महत्वपूर्ण. ये सच है की Pani Peene Ka Tarika भी होता है और ये हमारे स्वास्थ्य पर बहुत ज्यादा प्रभाव डालता है. आयुर्वेद में भी पानी पीने के तरीके बताये गए हैं जिनका अनुकरण करके आप एक स्वस्थ और लम्बा जीवन जी सकते हैं.

पानी हमारे जीवन का आधार है, ये बात आप सब जानते हैं. अगर हमें 4-5 दिन तक पानी ना मिले तो ये निश्चित है की हम मर जायेंगे. ये भी पूरी तरह सत्य है की ज्यादा पानी पीने के फायदे आपको अपनी लम्बी उम्र के रूप में मिलते हैं. लेकिन सिर्फ ज्यादा पानी पीने से भी कुछ नहीं होगा यही आपको पानी पीने का सही तरीका नहीं पता है तो.

Pani Peene Ka Sahi Tarika

हम सब बचपन से ये सुनते आ रहे हैं की पानी ज्यादा पीना चाहिए लेकिन क्यों पीना चाहिए आज तक किसी ने नहीं बताया. अगर आपने आयुर्वेद का नाम सुना है तो उसमे बहुत ही अच्छे पानी पीने के नियम और तरीके बताये गए हैं. दरअसल काफी हद तक आपका स्वास्थ्य इस बात पर निर्भर करता है की आप कितना पानी पीते हैं, कब पीते हैं और किस तरीके से पीते हैं.

Pani Peene Ka Sahi Tarika पानी पीने का सही तरीका

अगर आप किसी से ये कहोगे की पानी सही तरीके से नहीं पीने पर आपको भयंकर बीमारियों का सामना करना पड़ सकता है, तो वो इस पर विश्वास नहीं करेंगे. लेकिन ये 100% सच है, पानी की कमी से या गलत तरीके से पीने पर आपको क्या नुकसान हो सकते हैं ये सब भी आज हम हमारी पोस्ट पानी पीने का सही तरीका में आपको बताएँगे.

आपकी पसंदीदा जानकारियां-

दिमाग तेज करने के बेहतरीन उपाय और तरीके

हाइट बढ़ाने का तरीका, हाइट कैसे बढ़ाये

खाना खाने का तरीका, खाना खाने का सही तरीका

अंडे खाने के जबरदस्त फायदे और नुकसान

आपको पता होना चाहिए की हमारा शरीर जिन चीज़ों से बना है उनका 70% हिस्सा पानी ही है, अब आप हिसाब लगाइए की जिस चीज़ की शरीर को बनाने में इतनी बड़ी भागीदारी है वो साधारण तो हो नहीं सकती. पानी के बिना हम जीवित ही नहीं रह सकते. इसीलिए पानी पीने के तरीके जानना हमारे लिए जरूरी है ताकि हम हमेशा स्वस्थ रह सकें. चलिए फिर शुरू करते हैं.

पानी पीने के तरीके और सही टाइम, पानी पीने का सही तरीका

(1) सुबह उठते ही 1 गिलास पानी जरूर पीयें- कई लोग क्या करते हैं की सुबह उठते ही सबसे पहले चाय की तरफ भागते हैं. ये गलत है, सुबह उठते ही सबसे पहले आप बिना कुल्ला किये कम से कम 1 गिलास पानी जरूर पीयें. इससे होगा ये की जो प्राकृतिक लार रात भर आपके मुहं में बनी वो आपके पेट में चली जायेगी. ये लार अति-फायदेमंद होती है.

इसके बारे में कहा जाता है की इसमें 100 दवाओं के बराबर औषधीय गुण पाए जाते हैं. ये एंटी-बेक्टेरिया का काम भी करती है साथ में इसमें पाचन क्रिया से सम्बंधित ऐसे तत्व होते हैं जो कभी भी आपको पाचन से सम्बंधित समस्या नहीं होने देंगे.

(2) कभी भी खड़े होकर पानी ना पीयें- ये बीमारी लगभग 85% लोगों को है, अगर दिन में 10 बार वो पानी पीते हैं तो उसमें से 8 बार खड़े होकर ही पानी पीते हैं. आप शायद सोच भी नहीं सकते की आपकी ये आदत उम्र ढलने के साथ साथ आपका चलना भी मुश्किल कर सकती है. जी हाँ खड़े खड़े पानी पीने से घुटनों में दर्द की समस्या हो जाती है, और समय के साथ बहुत ज्यादा बढ़ सकती है.

बल्कि इतनी बढ़ सकती है की चलना तो क्या एक बार बैठने के बाद आपको खड़े होने में भी काफी दर्द महसूस करना पड़ सकता है और आप चारपाई पर पड़े रहने के लिए मजबूर हो सकते हैं. इसलिए हमेशा दिमाग में रखें की जब भी पानी पीयें हमेशा बैठकर पीयें, यही पानी पीने का सही तरीका होता है.

पानी पीने का सही तरीका

(3) खाना खाने के 1 घंटा पहले पानी पी लें- मान लीजिये आपका सुबह खाना खाने का टाइम 9 बजे का है, तो आप 8 बजे ही पेट भरकर पानी पी लीजिये. इसके बाद बाद पानी ना पीयें, इसका कारण ये है एक तो पानी पेट में बहुत ज्यादा जगह घेर लेता है, इससे आप सही से खाना नहीं खा पाएंगे. दूसरा ये शरीर में भोजन के टूटने में परेशानी पैदा कर सकता है.

(4) खाना खाने के बाद भी 1 घंटे तक पानी ना पीयें- ये भी पानी पीने का नियम है की जिस तरह खाने से ठीक पहले पानी नहीं पीना है उसी तरह खाने खाने के बाद भी आपको पानी पीने के लिए 1 घंटे का इंतजार करना चाहिए. ऐसा करना आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभकारी होगा. इसका भी कारण है, दरअसल होता क्या है की जब हमें भूख लगती है तो हमारे शरीर में जठराग्नि पैदा होती है.

और जब हम खाना खा लेते हैं तो यही जठराग्नि उस खाने को जलाने यानी पचाने का काम करती है. लेकिन सोचिये अगर आपने खाना खाते ही 1 गिलास पानी पी लिया तो क्या होगा? वो जठराग्नि बुझ जायेगी, मतलब शांत हो जायेगी. ऐसे में अब आपका खाना कैसे पचेगा.

अब सारा लोड आ गया लीवर पर, मतलब अब 2 समस्याएँ होंगी. 1 तो लीवर कमजोर होगा और दूसरा आपकी पाचन क्रिया गडबडा जायेगी. और अगर पेट से सम्बंधित समस्या होती है तो उसके साथ 4 समस्याएँ और हो जाती हैं, ये तो आपने सुना ही होगा. इसीलिए इस वाले पानी पीने के तरीके का ख़ास तौर से ध्यान रखें.

(5) पसीना सूखने तक पानी ना पीयें- गर्मियों के मौसम में हमें थोडा सा काम करते ही बहुत ज्यादा पसीना आ जाता है. या फिर कई बार हम क्या करते हैं की दौड़ते भागते हुए आते हैं और सीधा पानी की और लपकते हैं. ऐसा करना बहुत खतरनाक साबित हो सकता है. इससे सर्द-गर्म जैसी समस्या तो हो ही सकती है बल्कि आपको हार्ट अटैक भी आ सकता है.

ऐसे बहुत सी घटनाएं हो भी चुकी हैं, इसलिए जहाँ तक हो सके हमें कोशिश करनी चाहिए की पहले हमारा पसीना सूख जाए, उसके बाद ही पानी पीना है. अगर फिर भी आपको बहुत ज्यादा जल्दी है तो आप पहले अपने सिर पर थोडा पानी डालें इससे आपके शरीर और दिमाग का तापमान थोडा कम हो जाएगा, उसके बाद आप पानी पी सकते हैं.

Pani Peene Ke Tarike

(6) ज्यादा ठंडा पानी ना पीयें- देखिये आयुर्वेद में बताया गया है की ज्यादा पानी पीने के फायदे होते हैं, लेकिन ज्यादा ठंडा पानी पीने के नुकसान ही होते हैं. एक तो ठन्डे पानी को पचाने में शरीर को बहुत जोर लगाना पड़ता है क्योंकि ये बहुत भारी होता है. दूसरा इससे आपकी आंत सिकुड़ जाती हैं, जिससे आपका मल कठोर हो जाएगा और आपको कब्ज़ हो जायेगी.

जो लोग ज्यादातर बैठे रहते हैं, कोई शारीरिक श्रम नहीं करते उन्हें ये परेशानी बहुत जल्दी हो सकती हैं. इसलिए जितना हो सके नार्मल (मटके का) पानी पीने की कोशिश करें, फ्रिज का पानी हमें दिन-ब-दिन बीमार बनाता जा रहा है. इससे जितना हो सके बचने की कोशिश करें, चाहे गर्मी हो या सर्दी, गुनगुना पानी हमारे स्वास्थ्य के लिए सर्वोत्तम माना जाता है.

(7) फलों के साथ पानी ना पीयें- फल खाना हमारे स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है, लेकिन हम गलती कर देते हैं उनके ऊपर पानी पीकर. फल अम्लीय होते हैं और ये पानी के साथ क्रिया करके एसिडिटी बना देते हैं, जिससे हमें बहुत प्रॉब्लम होती है. इसके साथ आपको असहज महसूस हो सकता है जैसे बैचैनी या फिर जी मितलाना जैसी दिक्कतें सामने आ सकती हैं.

(8) हर रोज कम से कम 3 लीटर पानी जरूर पीयें- हर आदमी हर रोज अलग अलग मात्रा में पानी पीते हैं, ये सही है लेकिन एक बात हमेशा याद रखें की हर रोज आपको कम से कम 3 लीटर पानी पीना ही पीना है. पानी सिर्फ प्यास बुझाने के काम ही नहीं आता है, और भी कई काम हैं पानी के. जैसे शरीर में जमा गंदगी को मूत्र के साथ धीरे धीरे बाहर निकालते रहना.

अगर आप पर्याप्त पानी नहीं पीते हैं तो आपके शरीर में विषाक्त पदार्थ इकठ्ठा होने शुरू हो जाते हैं. और धीरे धीरे करके गंदगी बहुत ज्यादा बढ़ जाती है, उसके बाद आदमी के पास बीमार होने के अलावा कोई चारा नहीं बचता. इसलिए हर रोज कम से कम इतना पानी तो जरूर पीयें जितने की शरीर को आवश्यकता है. ये पानी पीने के नियम तरीके हमेशा ध्यान में रखें.

(9) ऊपर से डालकर पानी न पीयें- हम लोग क्या करते हैं की पानी का गिलास भरते हैं की और ऊपर से मुंह में डालना शुरू कर देते हैं. ऐसा करना अपने शरीर के साथ धोखा करना होता है. आयुर्वेद के अनुसार ऐसा करने वाले लोगों की किडनी खराब होने से भगवान् भी नहीं बचा सकते. पानी हमेशा मुहं लगाकर पीना चाहिए, यही पानी पीने का सही तरीका  होता है.

(10) रात को सोने से ठीक पहले पानी ना पीयें- ये भी एक बहुत बड़ी गलती है, और अगर रोज रोज इसको दोहराया जाएगा तो ये आपके लिए बहुत बड़ी समस्याएँ खड़ी कर देगा. असल में रात को सोने से पहले जब आप पीते हैं तो उससे आपके दिमाग को ऑक्सीजन मिल जाती है, और ओक्सिजन ज्यादा होने के कारण आपका दिमाग दौड़ना शुरू कर देता है.

आपके दिमाग में तरह तरह के विचार आने लगते है, इससे आपकी नींद में बाधा उत्पन्न होगी. आप रात को अच्छी तरह से सो नहीं पाएंगे, अगर ऐसा आप लगातार करते रहे तो आपमें चिडचिडापन और थकान उदासी की समस्या शुरू हो जायेगी. इसलिए जितना भी पानी पीना हो सोने से आधे घंटे पहले पी लें.

तो दोस्तों ये थी हमारी पोस्ट Pani Peene Ka Sahi Tarika जो आपने पढ़ी. जितने भी Pani Peene Ke Tarike/Niyam हमने आपको बताये, उनमें से कौन सा पानी पीने का सही तरीका आपको सबसे अच्छा लगा हमें comment करके जरूर बताएं. पोस्ट को Like और Share करना बिलकुल ना भूलें. धन्यवाद.

Leave a Reply