स्वास्थ्य के लिए पेरासिटामोल के नुकसान खतरनाक होते हैं

पेरासिटामोल टेबलेट के नुकसान – Paracetamol Side Effects Hindi

आजकल लोगों की हेल्थ खराब होने का एक बहुत बड़ा और सबसे मुख्य कारण है छोटे मोटे दर्द या दिक्कत के चलते एलोपैथिक दवाओं का इस्तेमाल करना. ये दवाएं एक बार तो हमें राहत दे देती है, लेकिन इनका लगातार और ज्यादा इस्तेमाल करना खतरे से खाली नहीं है. उन्ही दवाओं में से एक है पेरासिटामोल, आज हम हमारी पोस्ट Paracetamol Side Effects In Hindi में हम पेरासिटामोल के नुकसान जानेंगे.

आजकल लोग सेल्फ मेडिकेशन में ज्यादा विश्वास रखने लगे हैं, और विभिन्न प्रकार के विज्ञापनों से प्रभावित होकर बिना डॉक्टर की सलाह से कोई भी टेबलेट या दवा इस्तेमाल करने से नहीं चूकते. पेरासिटामोल भी एक ऐसी ही मेडिसिन है, भले ही पेरासिटामोल टेबलेट के नुक्सान गंभीर हों, लेकिन सच्चाई ये है की आप इसे बिना किसी प्री-स्क्रिप्सन के आसानी से किसी भी मेडिकल स्टोर पर जाकर खरीद सकते हो.

ये दवा NSAID ग्रुप की दवा है, इसका मतलब है Non Steroidal Anti Inflammatory Drug. इसका उपयोग ख़ास तौर से शरीर के किसी हिस्से में दर्द, हल्का बुखार या फिर सूजन को कम करने में किया जा सकता है. कई बार किसी चोट के कारण या फिर अगर आपकी कोई सर्जरी हुयी है और आपको दर्द हो रहा है तो आप इस दवा का इस्तेमाल कर सकते हैं.

स्वास्थ्य के लिए पेरासिटामोल के नुकसान खतरनाक होते हैं

पेरासिटामोल के काम करने का तरीका भी हम आपको बता देते हैं. पहले एक बार हमारे शरीर में दर्द क्यों होता है ये जान लीजिये. असल में होता क्या है हमारे शरीर में चोट लगने पर या कोई भी दुर्घटना होने पर एक ख़ास तरह का एंजाइम पैदा होता है जिसका नाम है Cyclooxygenase. ये 3 प्रकार का होता है टाइप 1, टाइप 2 और टाइप 3.

ये एंजाइम शरीर में ऐसे तत्वों को बढ़ावा देता है जो दर्द को बढ़ावा देते है, यानी हमें दर्द ज्यादा महसूस होने लगता है. अब यहाँ पेरासिटामोल लेने पर ये टेबलेट इस एंजाइम को रोकने का काम करती है जिससे दर्द गायब हो जाता है. यानी दर्द हमें महसूस होना बंद हो जाता है. पेरासिटामोल के साइड इफेक्ट्स को एक बार यदि भूल जाएँ तो पेरासिटामोल लेने का लाभ ये है की ये दर्द कम कर देती है.

इसके अलावा बुखार वगैरह में भी ये असरकारी है और अगर शरीर के किसी हिस्से में किसी भी वजह से सुजन आ गयी है तो ये उसको भी कम कर सकती है. हर प्रकार के दर्द और सामान्य बुखार में इसका इस्तेमाल करना बेहतर रहता है. पेरासिटामोल क्या है, कैसे काम करती है और इसके लाभ क्या हैं आपको पता चल गया होगा.

Paracetamol Side Effects In Hindi पेरासिटामोल के नुकसान से बचने के लिए सावधानियां

लेकिन क्या आपको पता है की हर तरह की दवा को उपयोग में लाने से पहले उसके बारे में अच्छे से जानना बहुत जरूरी है. अन्यथा उसके साइड इफेक्ट्स आपको बुरी तरह से प्रभावित करते हैं. कुछ ऐसा ही पेरासिटामोल के साथ है, इसका इस्तेमाल करने से पहले आपको इससे जुडी सावधानियों के बारे में जरूर जान लेना चाहिए.

– कभी खाली पेट पेरासिटामोल का इस्तेमाल ना करें.

– एक दिन में 3 ग्राम से ज्यादा पेरासिटामोल आपको कभी नहीं लेनी चाहिए.

– एक बार में 500 mg से बड़ी डोज़ ना लें, या लेने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें.

– अगर आप गर्भवती महिला हैं तो Paracetamol Ke Side Effects से बचने के लिए पहले डॉक्टर से परामर्श लें.

– अगर आपने शराब वगैरह पी रखी है तो पेरासिटामोल लेने से पहले डॉक्टर से बात करें.

– आपको शायद पता नहीं होगा की पेरासिटामोल की डोज़ किसी भी व्यक्ति को उसके वजन के हिसाब से दी जाती है. इसलिए बच्चों को ये दवा देने से पहले डॉक्टर से पूछें.

ये थी कुछ सावधानियां पेरासिटामोल दवा के नुकसानों से बचने के लिए ताकि आपको किसी तरह की कोई परेशानी ना हो. ये ख़ास कर उन लोगों के लिए हैं जो बिना सोचे समझे अपनी दिक्कत को समझे बिना इसका बहुत ज्यादा इस्तेमाल करते हैं. जरूरी नहीं की इसके नुकसान आपको तुरंत देखने को मिल जाएँ, हो सकता है कुछ महीनों या साल बाद आपको इसके साइड इफेक्ट्स मिलें.

अब अगर आप भी उन लोगों में से आते हैं जिनको हल्का सा सर दर्द हो जाए या शरीर के किसी भी हिस्से में थोडा दर्द होते ही पेरासिटामोल की टेबलेट गटक जाते हैं और ऐसा बार बार करते हैं, रोज करते हैं तो संभल जाइए. आपको ऐसा नहीं करना चाहिए क्योंकि पेरासिटामोल का एक हद से ज्यादा इस्तेमाल करना आपको लॉन्ग टर्म साइड इफेक्ट्स दे सकता है.

पेरासिटामोल का इस्तेमाल बार बार करने से, दिन में कई बार करने से और लगातार कई दिनों तक करने से ये हमारे शरीर को बहुत नुकसान पहुंचाती है. पेरासिटामोल का असर 2 से 5 घंटे तक रहता है इसलिए कई लोग क्या करते हैं की हर 2-3 घंटे में इसका इस्तेमाल दर्द से बचने के लिए कर लेते हैं. ऐसा करने से पेरासिटामोल के कौन कौन से नुकसान हमारे शरीर को होते हैं आइये जानते हैं.

पेरासिटामोल टेबलेट के नुकसान Paracetamol Side Effects In Hindi

(1) पेरासिटामोल हमारी किडनी यानी गुर्दों के लिए एक तकलीफ देने वाली मेडिसिन है, अगर आप सप्ताह में 1-2 बार इसका इस्तेमाल कर लेते हैं तो ठीक है. लेकिन अगर आप इसके आदि हो गएँ हैं तो ये आपके गुर्दे पूरी तरह से ख़राब कर सकती है या फिर उन्हें नुक्सान पहुंचा सकती है.

(2) पेरासिटामोल के नुकसान कई हैं, लेकिन ये एक ऐसा नुकसान है जिससे आपको कई बीमारियाँ घेर कर खड़ी हो जाती हैं. जी हाँ पेरासिटामोल का अधिक इस्तेमाल आपके इम्यून सिस्टम को पूरी तरह से कमजोर करके रख देता है. ये आपका दर्द तो गायब कर देती है लेकिन आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को घटा देती है, जिससे आप बार बार बीमार पड़ने लगते हैं.

(3) पेरासिटामोल का ज्यादा इस्तेमाल करने से आपको एलर्जी की समस्या हो सकती है. कई केसेस में देखा गया है की ज्यादा मात्रा में इसकी डोज़ लेने पर स्किन बिलकुल लाल पड़ जाती है और बहुत जोर से खुजली चलने लग जाती है. इसलिए इसका इस्तेमाल हमेशा कम डोज़ में ही करना चाहिए.

(4) अधिक मात्रा में ली गयी इस दवा का सीधा असर हमारे लीवर पर पड़ता है. ये लीवर की कार्यक्षमता को प्रभावित करती है यानी लीवर को कमजोर बना देती है. ये लीवर के संक्रमण का भी कारण बन सकती है. इतना समझ लीजिये की जब भी आप पेरासिटामोल लेंगे, आपका लीवर बेचारा जरूरी दुखी होगा.

(5) ये सच है की पेरासिटामोल आपका दर्द और सूजन दूर कर देती है, लेकिन ये भी सच है की ये आपको तनाव, चिडचिडापन, बेचैनी और अनिद्रा जैसी समस्याएँ भी देती है. इसलिए हमेशा इमरजेंसी में ही इसका इस्तेमाल करने के बारे में सोचना चाहिए. किसी घरेलू नुस्खे से अगर काम चल रहा है तो पहले वो अपनाएं.

(6) बिना इसकी ज्यादा जरूरत के हम पेरासिटामोल ले तो लेते हैं लेकिन पेरासिटामोल टेबलेट के नुकसान फिर आपके पाचन तंत्र को भुगतने पड़ते हैं. पेरासिटामोल का बार बार इस्तेमाल करने से पाचन तंत्र पर बुरा असर पड़ता है. पाचन क्रिया ढीली पड़ जाती है और पेट सही से साफ़ नहीं होता है. पेट में गैस ज्यादा बनने लगती है और हमेशा भारीपन रहता है.

(7) अगर कोई महिला गर्भवती है तो हमारी सलाह यही है की उसको इसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए. इसके बारे में आप अपने डॉक्टर से परामर्श ले सकते हैं. इस मेडिसिन की बड़ी डोज़ लेने पर गर्भपात होने का खतरा भी पैदा हो जाता है.

(8) पेरासिटामोल के नुकसान और साइड इफेक्ट्स सिर्फ यही तक नहीं हैं अगर किसी बच्चे को अनजाने में इसकी बड़ी डोज़ दे दी जाए तो उसका मानसिक संतुलन भी बिगड़ सकता है. पेरासिटामोल दिमाग में गर्मी बना सकती है जो की गंभीर समस्या है.

(9) हमारे परिवार में जब भी किसी बच्चे को बुखार होता है तो हम उसे झट से पेरासिटामोल दे देते हैं, लेकिन क्या आपको पता है की ऐसा करना गलत होता है. एक्सपर्ट्स के अनुसार पेरासिटामोल टेबलेट किसी बच्चे को तभी देनी चाहिए जब उसे 95*C से ज्यादा बुखार हो. लेकिन हम ध्यान नहीं देते और ऐसे में बच्चे में अस्थमा के लक्षण पैदा हो सकते हैं.

(10) यदि कोई इस दवा को ज्यादा डोज़ में कई दिन तक प्रयोग करे तो उसके यूरिन का रंग बदल जाता है, सुनहरे रंग का हो जाता है. ऐसा होते ही उन्हें सावधान हो जाना चाहिए, क्योंकि कई लोगों में देखा गया है की पेरासिटामोल के ज्यादा इस्तेमाल से उनके शरीर में पीलिया के लक्षण पैदा हो गए. अत: आप हमेशा इसका उपयोग सावधानी से करें.

इन्हें भी जरूर पढ़ें-

तो दोस्तों कैसी लगी आपको हमारी पोस्ट पेरासिटामोल के नुकसान – Paracetamol Side Effects In Hindi हमें comment करके जरूर बताएं. पोस्ट को Like और Share जरूर करें. हमारे साथ जुड़ने के लिए हमारे फेसबुक पेज को Like करलें और फेसबुक पर हमारे मित्र बन जाएँ. आप चाहें तो हमें Subscribe भी कर सकते हैं, धनयवाद.

Leave a Comment