Smoking Ke Nuksan – धूम्रपान या स्मोकिंग करना कैसे छोड़ें

नमस्कार, हाज़िर हैं हम एक बार फिर से एक गंभीर मुद्दे को लेकर. जी हाँ आज का हमारा टॉपिक है Smoking Ke Nuksan, और स्मोकिंग कैसे छोड़ें. शौक शौक के चक्कर में लाखों-करोड़ों युवाओं को इसकी लत लग चुकी है, उनका जीवन लगभग बर्बाद हो चुका है, इसीलिए आज हम उनको बताने वाले हैं की स्मोकिंग के साइड इफेक्ट्स क्या हैं और धूम्रपान कैसे बंद करे.

Smoking Ke Nuksan

Smoking Ke Nuksan, Side Effects Of Smoking In Hindi

कुछ वक़्त ने और कुछ गलत संगत ने आज के युवाओं की ज़िन्दगी को बदल कर रख दिया है. उन्हें उस मोड़ पर लाकर खड़ा कर दिया है, जहाँ से वापस आने का उन्हें रास्ता ही नहीं दिख रहा है. वक़्त को हम इसीलिए ज़िम्मेदार ठहरा रहे हैं क्योंकि आजकल expectations इतनी बढ़ चुकी हैं की युवा किसी भी काम में असफल होते ही नशे की तरफ भाग रहा है.

Smoking Ke Nuksan पता होते हुए भी युवाओं का एक बहुत बड़ा वर्ग इसकी चपेट में आ रहा है. माता-पिता इतने व्यस्त हैं की उन्हें पता ही नहीं है की उनके बच्चे की दिनचर्या क्या है और वो किनके साथ समय गुजार रहा है. उन्हें पता तब चलता है जब वो इन सब का आदि हो चुका होता है. स्मोकिंग की लत से सिर्फ एक आदमी की ज़िन्दगी बर्बाद नहीं होती, ये पूरे परिवार पर असर डालती है.

जो भी युवा अभी शौक के चक्कर में धूम्रपान कर रहे हैं वो ध्यान दें, अभी आप लोगों को पास मौका है खुद को सुधारने का, धूम्रपान छोड़ने का. नहीं तो एक दिन ऐसा आएगा की आप रोज सोचोगे की स्मोकिंग करना कैसे छोड़ें या धूम्रपान कैसे बंद करे लेकिन तब तक आप बहुत दूर पहुँच चुके होगे और वहां से वापिस आना बहुत ही कठिन होगा. उसके बाद पछताने के अलावा आपके पास कुछ नहीं रह जाएगा.

यहाँ बात सिर्फ युवाओं की नहीं है, भारत देश की कुल आबादी का 20% हिस्सा धूम्रपान करता है, इससे देश बीमार होता जा रहा है. ये हम सबकी और देश की तरक्की में बाधा बन रहा है. इसलिए हम उन सबको, जो स्मोकिंग करते हैं, बताने वाले हैं की बीड़ी सिगरेट पीने के नुकसान घातक हैं. समय रहते हमें अपनी इस बुरी आदत पर कण्ट्रोल क्यों कर लेना चाहिए आइये जानें.

धूम्रपान या स्मोकिंग कैसे छोड़े Smoking Ke Nuksan

(1) फेफड़े के कैंसर का खतरा- धूम्रपान करने के दौरान उसकी सारी धुआं हमारे फेफड़े अवशोषित करते हैं, उस धुआं में बहुत ही खतरनाक टार पायी जाती है. लगातार धूम्रपान करते रहने से हमारे फेफड़ों में टार की मात्रा बहुत बढ़ जाती है और ये कैंसर का कारण बनती है. महिलाएं अगर धूम्रपान करती हैं तो वो बहुत ही जल्दी फेफड़ों के cancer का शिकार होती हैं.

(2) अवसाद- लगातार धूम्रपान करते रहने से आदमी एंग्जायटी या डिप्रेशन का शिकार हो जाता है. ये बात प्रमाणित है की जो लोग बहुत ज्यादा धूम्रपान करते हैं उनके अवसाद में जाने का खतरा बहुत ज्यादा हो जाता है. शुरू शुरू में आदमी थोड़ी बहुत बेचैनी, डर वगैरह महसूस करता है, जिसे वो इगनोर कर देता हैं. लेकिन ये समस्या धीरे धीरे बढती हुयी डिप्रेशन का रूप धारण कर लेती है.

(3) जल्दी बूढा होना- Smoking Ke Nuksan ऐसे ऐसे भी हैं जिन पर कई बार हमारा ध्यान नहीं जाता. जैसे उम्र का असर आदमी पर बहुत जल्दी दिखना शुरू हो जाना. आप 5 आदमी स्मोकिंग करने वाले और 5 आदमी बिना स्मोकिंग करने वालों को इकठ्ठा खड़ा करके गौर से देखिये आपको फर्क पता चल जाएगा. आप पाएंगे की स्मोकिंग करने वालों की त्वचा मुरझा चुकी है.

(4) दिल की बीमारियाँ- दिल हमारी शरीर रुपी मशीन का इंजन है. सोचिये अगर वही बीमार हो जायेगा तो कैसे काम चलेगा. जैसा की ऊपर आपको बताया गया है की धूम्रपान से मिलने वाली टार हमारे खून में मिलने के कारण कभी भी आदमी को स्ट्रोक आ सकता है. मतलब समझ रहे हैं न आप, हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है. और भी दिल से सम्बंधित बीमारियाँ हो जाती हैं.

Smoking Kaise Chhode

(5) एनर्जी कम हो जाना- शुरू शुरू में जब आदमी धूम्रपान करता है तो उसे लगता है की उसे उससे एनर्जी मिल रही है, धीरे धीरे वो डोज़ को बढाता रहता है एनर्जी के चक्कर में. उसके बाद एक समय ऐसा आता है की उसकी एनर्जी का स्तर बहुत नीचे गिर जाता है और वो बस आलस का शिकार बनके रह जाता है. ऐसा होने पर कोई भी काम शुरू करने से पहले वो धूम्रपान करना जरूरी समझता है.

(6) प्रज़नन क्षमता कम हो जाना- जितने भी हम Smoking Ke Nuksan Side Effects आपको बता रहे हैं उनमे से ये भी एक बड़ा नुकसान है और ज़िन्दगी को बुरी तरह से प्रभावित करता है. आदमी की प्रज़नन क्षमता उसके रक्त परिसंचरण और वीर्य की गुणवत्ता पर निर्भर करती है. अगर प्रज़नन अंगों में रक्त सही से नहीं पहुंच पा रहा है तो आप प्रज़नन कर ही नहीं सकते.

धूम्रपान करने से रक्त का संचार बाधित होता है और वीर्य की गुणवत्ता पर असर पड़ता है. यही कारण है की धूम्रपान के कारण आपकी प्रज़नन क्षमता दिन ब दिन कम होती चली जाती है और आपको शादीशुदा ज़िन्दगी में बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ता है.

(7) दिमाग कमज़ोर होना- स्मोकिंग करने से हमारे दिमाग में खून की सप्लाई बाधित होती है जिससे वो निरंतर कमजोर होता चला जाता है. एक समय ऐसा आता है जब आपकी यादाश्त बहुत कमजोर हो चुकी होती है. आप बहुत कुछ भूलने लगते हैं और दिमाग में नए आइडियाज आना बंद हो जाते हैं.

(8) होंठ काले पड़ जाना- स्मोकिंग करने वाले लोगों की होठों की त्वचा झुलस जाती है. उनपर काला रंग स्थायी रूप से अपनी जगह बना लेता है, जो की बहुत ही भद्दा लगता है. धूम्रपान करने वाले लोगों को उनके होंठ देखकर कोई भी उनको आसानी से पहचान लेता है. Smoking Karne Ke Nuksan उनके होठों पर आसानी से देखे जा सकते हैं.

(9) सांस फूलने की बीमारी- स्मोकिंग करने वाले लोगों का थोड़ी सी मेहनत करने में ही सांस फूलने लगता है. आपने अस्थमा के बारे में सुना ही होगा, सांस फूलने की इसी बीमारी को अस्थमा कहते हैं जो की धूम्रपान का सबसे बड़ा साइड इफ़ेक्ट है. इसी के साथ कफ भी जमा हो जाता है जो की बहुत परेशानियाँ पैदा करता है.

(10) आंत सिकुड़ जाना- धूम्रपान करने से आदमी की आंतें सिकुड़ जाती हैं. जिससे उसे भूख भी कम ही लगती है. आपने कई लोगों को कहते हुए सुना होगा की धूम्रपान किये बिना उनका पेट साफ़ ही नहीं होता. असल में ये आंत सिकुड़ने के कारण ही होता है. आदमी जब सुबह उठते ही धूम्रपान करता है तो आंत सिकुड़ती है और उसमे मौजूद मल पर बाहर निकलने के लिए दवाब पड़ता है.

तो ये तो थे Smoking Ke Nuksan, आपको पता लग गया होगा की स्मोकिंग करने से कितने भयंकर दुष्परिणाम हो सकते हैं. अब बात करते हैं Smoking Kaise Chhode. स्मोकिंग की लत लगने के बाद जब उसके साइड इफेक्ट्स की बारी आती है तो लोग स्मोकिंग छोड़ने के बारे में सोचना शुरू करते हैं. चलिए जानने की कोशिश करते हैं की स्मोकिंग छोड़ने के लिए क्या करें.

धूम्रपान करने के नुकसान जानने के बाद अब जानिये Smoking Kaise Chhode

स्मोकिंग की लत लगने के बाद इसे छोड़ना बहुत मुश्किल बन जाता है. लेकिन वो कहते हैं न की अगर हम कोशिश ही ना करें तो वो गलत है. स्मोकिंग छोड़ने के उपाय आपको यहाँ बता रहे हैं, कोशिश जरूर कीजियेगा.

सबसे पहले दृढ़ निश्चय करें- धूम्रपान छोड़ने के लिए सबसे पहले आपको दृढ़ निश्चय करना होगा. आपको सोचना होगा की इतने दिन से लगी हुयी लत को छोड़ने में कुछ परेशानियां तो होंगी ही. आपको इनसे घबराना नहीं है और अपने फैसले पर अटूट रहना है. थोड़ी सी बेचैनी होने से कोई मर नहीं जाता है.

अपने रूटीन को पूरा बदल दें- असल में होता क्या है हर नशा करने वाले आदमी ने नशा करने का अपना समय बनाया हुआ होता है, जैसे 1 बार उठते ही स्मोक करना है, उसके बाद चाय पीने के बाद, फिर खाना खाने से पहले और फिर खाना खाने के बाद. तो आपको क्या करना है की अपना पूरा रूटीन ही बदल देना है. साथ में ये ध्यान रखना है की अब मुझे कोई भी काम करने से पहले धूम्रपान नहीं करना है.

Smoking Chhodne Ka Tarika

तलब को इंतज़ार कराएँ- आम तौर पर लोग तलब लगते ही धूम्रपान शुरू कर देते हैं, आपको ऐसा नहीं करना है, जब भी तलब लगे उसे लगी रहने दें और इंतज़ार कराएँ. आप किसी से बात करना शुरू करदें या लोगों के बीच जाकर बैठ जाएँ, पर धूम्रपान न करें. धीरे धीरे आपको महसूस होना शुरू हो जायेगा की अगर तलब लगने पर भी धूम्रपान ना किया जाये तो कुछ नहीं होता.

इस तरीके से समय को बढाते जाएँ. एक दिन ऐसा आएगा की दिन में सिर्फ 2 या 3 बार धूम्रपान करने से ही आपका काम चलने लगा है. अब आप धीरे धीरे करके उसे बिलकुल बंद कर दीजिये. मानसिक रूप से मज़बूत बने रहिये.

व्यस्त रहें- अपने आप को व्यस्त रखना भी इस समस्या से जल्दी छुटकारा दिला सकता है. आपको ध्यान ये रखना है की आप अकेले किसी चीज़ में व्यस्त न रहें. अकेला आदमी चाहे किसी भी चीज़ में व्यस्त रहे वो बीच बीच में धूम्रपान कर ही लेता है. आप अच्छे लोगों के बीच बैठें, उनकी बात सुनें. आप पाएंगे की आपका बहुत सारा समय बिना धूम्रपान किये ही कट रहा है.

उनके बारे में सोचें जिनसे आप प्यार करते हैं- बीच बीच में आपको ये जरूर सोचना है की अगर धूम्रपान के कारण आपको कुछ हो गया तो आपके परिवार और आपके बाल बच्चों का क्या होगा. भविष्य में उनका साथ देने वाला कोई नहीं है. इन सब बातों पर विचार करने से आपको अपने फैसले पर अटल रहने की ताकत मिलेगी. Smoking Ke Nuksan भी ध्यान में रखें.

खुश रहें- आम तौर पर आदमी सबसे ज्यादा नशा तब करता है जब वह तनाव में होता है. आप हमेशा ऐसे कामों में व्यस्त रहिये जिनको करने से आपको ख़ुशी मिलती हो. आप खुश रहेंगे तो यक़ीनन आप धूम्रपान को जल्दी से जल्दी छोड़ पाएंगे और आपको ऐसा करने में आसानी होगी.

कैफीन से दूरी बनाएं- कैफीन और निकोटिन का बहुत ही गहरा रिश्ता होता है. कैफीन लेते ही आपका मन निकोटिन लेने की तरफ भागेगा. तो जिन चीज़ों में कैफीन होता है जैसे चाय और कोल्ड ड्रिंक्स वगैरह को छोड़ दें. इससे आपको स्मोकिंग छोड़ने में आसानी होगी.

आप पढ़ रहे थे Smoking Kaise Chhode, ऐसा करने में आपको थोड़ी तकलीफ जरूर होगी लेकिन अगर आपका निश्चय अटल है तो आप जरूर कामयाब हो जायेंगे. किसी भी लक्ष्य को पाने के लिए हमें मेहनत तो करनी ही होती है.

इन्हें भी जरूर पढ़ें-

दौड़ने या रनिंग करने के 12 जबरदस्त फायदे

कैलोरीज क्या हैं, कितनी कैलोरीज लेनी चाहिए रोज

शराब पीने के नुकसान, शराब कैसे छोड़ें

इम्युनिटी कैसे बढ़ाएं, इम्युनिटी क्या है

तो दोस्तों ये थी हमारी पोस्ट Smoking Ke Nuksan, धूम्रपान कैसे बंद करे या स्मोकिंग कैसे छोड़ें. पोस्ट आपको कैसी लगी हमें comment करके जरूर बताएं. पोस्ट को Like और Share करना मत भूलियेगा. धन्यवाद्.

Leave a Reply